देशभक्ति का विकास : भाग 1 (Development of Patriotism) Deshbhakti

अब जब भारतवर्ष की आजादी की 74वीं वर्षगांठ मनाई जाएगी तो मन में हर्ष के साथ कुछ जिम्मेदारी वाले प्रश्न उठते हैं, कि  मैं अपने देश के लिए क्या कर पा रहा हूँ ? आने वाली पीढ़ी देश की जिम्मेदारी को महसूस करती है या नहीं । और किस प्रकार हम अपनी जिम्मेदारी को निभा सकते हैं –

बच्चों को देशभक्त कैंसे बनाएं – How make children Patriotic?


आज भारत देश पूरे विश्व में अपने विभिन्न क्षेत्रों में अपने योगदान के लिए अग्रणीय बना हुआ है। उत्पादकता व उपभोक्ता के रूप में भारत की ओर, सभी देशों की निगाहें हैं। UN की report  2014 के अनुसार इस दशक में भारत में अधिक युवा होंगे। यह समय भारत के युवाओं का स्वर्णिम समय है। क्योंकि तब भारत के युवाओं की जनसंख्या विश्व में शीर्ष स्थानों पर विराजमान रहेगी।

ऐसे में हमारा यह दायित्व हो जाता है, कि हम अपनी युवा पीढ़ी का निर्माण और भी सावधानीपूर्वक करें। हमें इस युवा शक्ति का इस्तेमाल निर्माणात्मक रूप से करें । हम उनकी कौशल क्षमता skill Indiaको बढाकर उन्हें रोजगारपरक शिक्षा दें । और वो देश को प्रगति की ओर ले जाएं। चूंकि देश की दिशा व दशा इन्हीं युवाओं के हाथ में है। इसलिए यह भी जरूरी है, कि हम अभी से बच्चों में उत्तम संस्कार, चारित्र, देशप्रेम की भावना का संचार करें ।


लेकिन विचारणीय बात यह है की आज के तेजी से बदलते दौर में शायद देश भक्ति गुम सी हो गई है। और कहीं यह घुट घुट के दम न तोड़ ले। इसके लिए हमें इसे जीवित रखना बहुत जरूरी है।

आज  देशभक्ति का अर्थ – Meaning of patriotism

अब देखते हैं की आज के दौर में हम देशभक्ति को हमने देशभक्ति को कहां तक सीमित कर लिया है –

  •  देश भक्ति फिल्मों में हिंदुस्तान – पाकिस्तान की लड़ाईयों तक, में या फिर फौजियों की कहानियों तक।
  • देशभक्ति गाने नए व पुराने को सुनने तक उनमें से भी कई कुछ देशभक्ति गाने तो कुछ ऐसे हैं की उनमें केवल नाम के लिये देशभक्ति शब्द थोपे गए हैं ।
  • खेल के मैदानों तक और प्रसारित करने वाले टी0वी0 Programs तक।

  • Schools जो कि  देशभक्ति संचार के लिए सबसे महत्वपूर्ण सामाजिक संस्था है वह केवल कुछ प्रोग्राम व वाद विवाद एवं पेंटिंग प्रतियोगिता तक सीमित हो गए हैं।
  • स्कूल के बाद जिस सूचना तंत्र यानी Media, News Channel पर भी देशभक्ति की जिम्मेदारी है वहां भी आप केवल देश भक्ति स्टेटस देश भक्ति गीत देशभक्ति थंबनेल तक ही सीमित हो गया है।
  • Social Media पर तिरंगे का स्टेटस tiranga Status देशभक्ति मैसेज देशभक्ति शायरी,  सैनिकों के फोटो शेयर करना तक सीमित हो गया है।


तो क्या 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से लेकर 15 अगस्त सन 1947 तक इतना लंबा त्याग व बलिदान विलासिता भरा जीवन को पाने के लिए था। जिसमें हम केवल खुद को व अपने  परिवार बचाने की जिम्मेदारी रखते हैं । समाज व देश के प्रति हमारी कोई जिम्मेदारी, कर्तव्य नहीं ?

यदि आज ही किसी बाहरी मुल्कों ने हमें हथियाने की कोशिश की तो हम केवल सोशल मीडिया द्वारा उसे मजा चखा देंगे? 
या
फिर केवल इसलिए था कि, हम खेल के मैदान में उसे हराकर जीत का जश्न कुछ इस प्रकार से मनाएंगे की वह शर्म से मर जाए।
या
फिर इसलिए कि जो वीर हमारी सेना में लड़ते हुए शहीद हुआ है उसकी picture  पर हम केवल like  देंगे या Rip लिख के अपनी जिम्मेदारियों से पीछा छुड़ा लेंगे।
बिल्कुल भी नहीं।
तो फिर हमें क्या करना चाहिए। जाहिर सी बात है इस प्रश्न का उत्तर ही असल में देश भक्ति है, तो फिर हमें क्या करना चाहिए? आइए इन प्रश्नों के कुछ संभावित उत्तर इस प्रकार से हो सकते हैं –

पोस्ट बड़ी हो जाने की वजह से इसे अगली पोस्ट में पढ़ते हैं।
जय हिन्द

अरविन्द कुमार

One comment

  1. […] देशभक्ति, बच्चों में । आज के दौर में देशभक्ति आप सभी ने पिछले लेख में पढा (पद़ने के लिए क्लिक करें ) । तो हमारा देश के प्रति क्या कर्तव्य बनता है कि हम उसकी प्रगति में अपना सहयोग दें ? संभावित उत्तरों की खोज के लिए आगे पढ़ते हैं – […]

Comments are closed.